PDA

View Full Version : हिन्दी शायरी


sombirnaamdev
18-01-2012, 12:12 AM
न वह दिल के पास हैं
न उनके कदम कभी हमारे घर की ओर
बढ़ते नज़र आते हैं,
कहें दीपक बापू
उनसे दोस्ती का दम क्या भरें
जिनकी वफा पर लगे ढेर सारे दाग
दिखते हैं जहां को
मगर वह खूबसूरती से
खुद से सच से ही आँखें फेर जाते हैं।

sombirnaamdev
18-01-2012, 12:12 AM
दिल अपना-हिन्दी शायर (Dil apna-hindi shayri)


शर्म आंखों में होती है
पर्दे कभी उसका बयां नहीं करते
इज्जत की जगह दिल में है
शब्दों में बयां कभी नहीं करते।
जब खौफ हो इंसान के अंदर
किसी की दौलत और शौहरत का
उसे दिखाने के लिये
जमाना करता है सलाम,
पर वहां शर्म और इज्जत होती है हराम,
लोग अपने बयां में
दिल की दुआयें नहीं भरते
--------------
जब तक सोचते रहे
अपनी जिंदगी की बदतर हालात पर
तब मन पर बोझ रहा
आंखों से नहीं निकले आंसू
पर दिल में दलदल करते रहे।
जमाना हंसा जब हमने दर्द कहे।
जबसे अपने रोने पर ही
खिलखिलाना सीख लिया
तब से हैरान हैं लोग
अक्सर पूछते हैं कि
‘क्या तुम्हारे गमों ने साथ छोड़ा
कैसे खुशियों को अपनी तरफ मोड़ा
तुम्हारे गमों पर हंसकर
बहलाते थे दिल अपना
उसी से अपना दिल हल्का करते रहे।।
----------------
कवि, लेखक और संपादक-दीपक भारतदीप,Gwalior

sombirnaamdev
18-01-2012, 12:13 AM
किसी पर पत्थर फैंकता हुआ इंसाना नज़र आता है,
मगर दूआऐं देने वाले शख्स को कौन देख पाता है।
गाली देते और गुर्राते आदमी की आवाज गूंजती है
मगर प्यार करने वाले की सुंगध कौन सूंघ पाता है।
कहें दीपक बापू अदाओं पर फिदा है पूरा जहान
खामोश हमदर्दी का अहसास इंसान नहीं कर पाता है।
जमाने का दिल जीतने के लिये मरे जा रहे शैतानों को
फरिश्तों पर फब्तियां कसकर नाम कमाना खूब भाता है।
--------
कवि, लेखक एवं संपादक-दीपक भारतदीप, ग्वालियर

sombirnaamdev
18-01-2012, 12:14 AM
हकीकत जान लो जुदा होने से पहले
मेरी सुन लो अपनी कहने से पहले
बहुत रोई है ये आँखे मुस्कुराने से पहले!

sombirnaamdev
18-01-2012, 12:15 AM
ग़ज़ल
सदा जो दिल से निकल रही है
वो शेर-ओ-नग्मों में ढल रही है
कि दिल के आँगन में जैसे
कोई गजल की झाँझर झनक रही है

sombirnaamdev
18-01-2012, 12:15 AM
दोस्ती का हाथ
लम्हें ये सुहाने साथ हो न हो
कल मे आज जैसी कोई बात हो न हो
आपकी दोस्ती हमेशा इस दिल मे रहेगी
चाहे कभी मुलाक़ात हो न हो !

sombirnaamdev
18-01-2012, 12:18 AM
मेरी मोहब्बत मेरे दिल की गफलत थी
मैं बेसबब ही उम्र भर तुझे कोसता रहा

आखिर ये बेवफाई और वफ़ा क्या है
तेरे जाने के बाद देर तक सोचता रहा

मैं इसे किस्मत कहूँ या बदकिस्मती अपनी
तुझे पाने के बाद भी तुझे खोजता रहा


सुना था वो मेरे दर्द मे ही छुपा है कहीं
उसे ढूँढने को मैं अपने ज़ख्म नोचता रहा

sombirnaamdev
18-01-2012, 12:18 AM
जब मिटा के शहर गया होगा
एक लम्हा ठहर गया होगा

है, वो हैवान ये माना लेकिन
उसकी जानिब भी डर गया होगा

तेरे कुचे से खाली हाथ लिए
वो मुसाफिर किधर गया होगा

ज़रा सी छाँव को वो जलता बदन
शाम होते ही घर गया होगा

नयी कलियाँ जो खिल रही फिर से
ज़ख़्म ए दिल कोई भर गया होगा

sombirnaamdev
18-01-2012, 12:18 AM
वो मेरे नक्श-ओ-निशा मिटने आया था
और मैं ज़मी में ख़ुद को छुपा आया था

तेरे सितम का निशान लाया साथ अपने
शब्'ऐ फिराक का एक लम्हा चुरा आया था

किसी नज़र को तो मेरी तलाश नही थी
सो मैं ख़ुद से ही नज़र बचा आया था

वो बस अपने फ़राह के लिए आते थे मिलने
उन्हें अपना समझ मैं ज़ख्म दिखा आया था

दिल के टूटते ही अचानक मैं नादां से दाना हुआ
इस तजुर्बे की क्या कीमत चुका आया था

अफ़सोस नही के मेरा दुश्मन मुझसे जीत गया
मलाल यह है की मेरे महबूब ने उसे जिताया था

नम निगाह देख के हमदर्दी ना जाता
ये तो मैं चश्म का भोझ गिरा आया था

सुपुरत'ऐ खाक कर के ख्वाबों को आपने
मैं वहां की घांस भी जला आया था

तेरे जाने के बाद भी तुझे छोड़ ना पाया
सम्शन से मैं तेरी राख़ चुरा आया था

वो मांगते थे इश्क की गवाही मुझसे
मैं तो कबका जुबां दफ़न कर आया था

जाते जाते भी तेरी याद ना गई दिल से
तो मैं अब ख़ुद को ही भुला आया था

बाद'ओ जाम ही मेरे फाजिल'ऐ उमर हुए
तो मैं मैकदे में ही घर बसा आया था
कतरा बन के अटका हूँ तेरी पलकों पर
देख ना नज़र झुका के गिर जाऊंगा

sombirnaamdev
21-01-2012, 11:42 PM
**===**===**
जब होता है तुम्हारा दीदार,दिल धङकता है बार-बार,आदत से मजबुर हो तुम,ना जाने कब माँग लो उधार
**===**===**
**===**===**
हर तरफ खामोशी का साया है, जिसे चाहते थे हम वो अब पराया है,गिर पङे है हम मोहब्बत की भुख से, और लोग कहते है की पीकर आया है
**===**===**
जान से भी ज्यादा उन्हे प्यार किया करते थे,याद उन्हे दिन रात किया करते थे,अब उन राहो से गुजरा नही जाता,जहा बैठ कर उनका ईँतजार किया करते थे
**===**===**
प्यासे को इक कतरा पानी काफी है, ईश्क मे चार पल की जिंदगी काफी है, डुबने को समँदर मे जायेँ क्यो, उनकी पलको से टपका वो आँसु ही काफी है
**===**===**
हकीकत जान लो जुदा होने से पहले, मेरी सुन लो अपनी सुनाने से पहले, ये सोच लेना भुलाने से पहले, बहुत रोई है ये आँखे मुस्कुराने से पहले
**===**===**
-い---い--い---い--い-हम ने माँगा था साथ उनका,वो जुदाई का गम दे गए,हम यादो के सहारे जी लेते,वो भुल जाने की कसम दे गए!
-い---い--い---い--い-
लबो की हँसी आपके नाम ..

sombirnaamdev
21-01-2012, 11:42 PM
...कर देँगेँ,हर खुशी आप पर कुर्बान कर देँगेँ,जिस दिन होगी कमी मेरे प्यार मे,जिँदगी को मौत के नाम कर देँगेँ।
-い---い--い---い--い-
आंसुओ को लाया मत करो,दिल की बात बताया मत करो,लोग मुठ्ठी मे नमक लिये फिरते है,अपने जख्म किसी को दिखाया मत करो।
-い---い--い---い--い-
काश कोई खुशियो की दुकान होती,वंहा हमारी पहचान होती,दे देता सारी खुशियाँ तुझे,चाहे उसकी कीमत हमारी जान होती।
-い---い--い---い--い-
हमे अपनी दोस्ती का हिसाब नही आता,उनका पलट कर कोई जवाब नही आता, हम तो उनकी याद मे सोते तक नही और उनको सो कर भी हमारा ख्वाब तक नही आता।
-い---い--い---い--い-
मुझे दर्द-ए-ईश्क का मजा मालुम है,दर्द -ए-दिल की इंतहा मालुम है,मुस्कुराने की दुआ न दो,पल भर मुस्कुराने की सजा मालुम है।
-い---い--い---い--い-
हमारे आंसू पोँछ कर आप मुस्कुराते है आप इसी अदा से दिल चुराते है,हाथ हमारा छु जाये आपके चेहरे को इसी उम्मीद से हम आपको रुलाते है।
-い---い--い---い--い-
मुस्कुराहट आपके होठो से जाए ना,आंसु आपकी पलको मे कभी आए ना,दुआ है आपका हर ख्वाब पुरा हो जाए,जो पुरा ना हो वो ख्वाब कभी आए ना।
***---***---***---***
हमारा हर पल चुरा लिया आपने,इन आँखो को एक ख्वाब दिखा दिया आपने,हमे जिन्दगी तो दी किसी और ने,पर बेपनाह ...

sombirnaamdev
21-01-2012, 11:44 PM
“ना दिल से होता है ना दिमाक से होता है
ये प्*यार तो इतफाक से होता है
और क्*या कहे प्*यार करके भी
प्*यार न मिले ये इतफाक सिर्फ हामारे साथ होता हैं”

sombirnaamdev
21-01-2012, 11:44 PM
“आंसू पौछकर हंसाया है मुझे
मेरी गलती पर भी सीने से लगाया है मुझे
कैसे प्*यार न हो ऐसे दोस्*त से
जिसकी दोस्*ती ने जीना सिखाया है मुझै ”

sombirnaamdev
21-01-2012, 11:44 PM
“तु दिल में ना जाये तो मैं क्*या करू
तु ख्*यालों से ना जाये तो मैं क्*या करू
कहते है ख्*वावों में होगी मुलाकात उनसे
पर नींद न आये तो मैं क्*या करू ”

sombirnaamdev
21-01-2012, 11:45 PM
pयार गुनाह है तो होने ना देना प्*यार खुदा है तो खोने ना देना
करते हो प्*यार जब किसी से तो
कभी उस प्*यार को रोने ना देना ”

sombirnaamdev
21-01-2012, 11:45 PM
“बिकता अगर प्*यार जो कौन नहीं खरीदता
बिकती अगर खुशियां तो कौन उसे बेचता
दर्द अगर बिकता तो हम आपसे खरीद लेते
और आपकी खुशियों के लिए हम खुद को बेच देते

sombirnaamdev
21-01-2012, 11:46 PM
“काश खुशियों की कोई दुकान होती
हमें भी उसकी पहचान होती
भर देते आपकी जिन्*दगी को खुशियों से
किमत चाहे उसकी हमारी जान होती ”

sombirnaamdev
21-01-2012, 11:46 PM
“कोई ऐसा दोस्*त बनाया जावे
जिसके आंसू को पलकों में छुपाया जाये
रहे उसका मेरा रिश्*ता कुछ ऐसा
कि अगर वो उदास हो तो हमसे भी ना मुस्*कुराया जावें ”

sombirnaamdev
21-01-2012, 11:46 PM
“जिन्*दगी की राहों में बहुत से यार मिलेगें
हम क्*या हमसे भी अच्*छे हजार मिलेगें
इन अच्*छों की भीड में हमे ना भूला देना
हम कहॉ आपको बार बार मिलेगें ”

* * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * *

“दिल में बसता है दिल ए यार
जब चाहा सर झुकाया और कर लिया दिदार
आखों में है आपके प्*यार का सरूर
आप ही ना जाने हमारा क्*या कसूर ”

* * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * *

“आप पास रहे या दूर
हम दिल से दिल की आवाज मिला सकते है
ना खत के, ना टेलिफोन के मौहजात है हम
आपके दिल को एक हिचकी से हिला सकते है हम ”

sombirnaamdev
21-01-2012, 11:47 PM
:giggle:ए दोस्*त तेरी दोस्*ती ये नाज करते है
हर बकत मिलने की फरियाद करते है
हमें नही पता घरवाले बताते है
के हम नीदं में भी आपके बात करते हैं

sombirnaamdev
21-01-2012, 11:47 PM
“अपने दिल की सूनी अफवाहों से काम ना ले
मुझै याद रख बेशक मेरा नाम ना ले
तेरा बहम है के मैं भूला दूंगा तुझे
मेरी कोई ऐसी सांस नहीं जो तेरा नाम न ले ”

* * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * *

“दोस्*ती से आज प्*यार शरमाया है
तेरी चाहत ने कुछ ऐसा गजब ढाया है
खुदा से क्*या तुझे मांगे, वो तो आत खुद
मुझ से मुझ जैसा मांगने आया है ”

sombirnaamdev
21-01-2012, 11:49 PM
“सांस लेने से तेरी याद आती है
ना लेने से मेरी जान जाती है
कैसे कह दू सिर्फ सॉस से मै जिन्*दा हू
कम्*बक्*त सांस भी तो तेरी याद के बाद आती है ”

* * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * *

“हंसी ने लबों पर थ्रिकराना छोड दिया
ख्*बाबों ने सपनों में आना छोड दिया
नहीं आती अब तो हिचकीया भी
शायद आपने भी याद करना छोड’ दिया ”

* * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * *

“ओस की बूंदे है, आंख में नमी है,
ना उपर आसमां है ना नीचे जमीन है
ये कैसा मोड है जिन्*दगी का
जो लोग खास है उन्*की की कमी हैं ”

sombirnaamdev
21-01-2012, 11:50 PM
“आसुओं के चलनेकी आवाज नहीं होती
दिल के टुटने की आहट नहीं होती
अगर होता खुदा को हर दर्द का अहसास
तो उसे दर्द की आदत ना होती ”

* * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * *



“ हम दोस्*ती में हद से गुजर जायेगें
ये जिन्*दगी आपके नाम कर जायेगें
आप रोया करेगों हमे याद करके
आपके दामन में दतना प्*यार भर जायेगें”

* * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * *

“रिश्*तों की ये दुनिया है निराली
सब रिश्*तों से प्*यारी है दोस्*ती तुम्*हारी
मंजूर है आंसू भी आखों में हमारे
अगर आ जाये मुस्*कान होठों पे तुम्*हारी ”

* * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * *

“ए पलक तु बन्*द हो जा,
ख्*बाबों में उसकी सूरत तो नजर आयेगी
इन्*तजार तो सुबह दुबारा शुरू होगी
कम से कम रात तो खुशी से कट जायेगी ”

sombirnaamdev
21-01-2012, 11:50 PM
बिन देखे तेरी तस्*वीर बना सकते हैं बिन मिले तेरा हाल बना सकते है
हमारे प्*यार में इतना दम है की
तेरे आसूं अपनी ऑख से गिर सकते हैं ”

sombirnaamdev
21-01-2012, 11:51 PM
“उन्*हें ये शिकवा हमसे के
हम उन्*हें याद करते ही नहीं
पर कम्*बख्*त उन्*हे ये कौन समझाये की
हम उन्*हें याद कैसे करें जिन्*हे हम भूलते ही नहीं ”

* * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * *

“अहसास बहुत होगा जब छोड के जायेगें
रायेगें बहुत अगर आसूं नहीं आयेगें
जब साथ ना दे कोई तो आवाज हते देना
आसमां पर भी होगें तो लोट के आयेगें ”

sombirnaamdev
21-01-2012, 11:52 PM
“आपकों प्*यार करने से डर लगता है
आपकों खोने से डर लगता है
कहीं आखों से गुम ना हो जाये याद
अब रात में सोने से डर लगता है”

* * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * *

“यूं तो आपको रोज याद कर लिया करते है
मन ही मन में देख लिया करते है
क्*या हुआ अगर आप पास नहीं है
हम तो दलि में मूलाकात कर लिया करते हैं ”

* * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * *

“याद में तेरी आखं भरता है कोई
सांस के साथ तुझे याद करता है कोई
मौत सच्*चाई है इक रोज सबको आनी है
तेरी जुदाई में हर रोज मरता है कोई ”

* * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * *

“दीवाने है तेरे नाम के इस बात से इंकार नहीं
कैसे कहे कि तुमसे प्*यार नहीं
कुछ तो कसूर है आपकी आखों का
हम अकेले तो गुनहगार नहीं ”

sombirnaamdev
21-01-2012, 11:52 PM
“इतना ना चाहों की भूला ना सके
इतना ना पास आओं की दूर ना जा सकों
तन्*हाई में बैठकर ये सोचते है हम
कि ना चाहों उसकी जीसे पा ना सको ”

sombirnaamdev
21-01-2012, 11:52 PM
जुदाई आपकी रूलाती रहेगी याद आपकी आती रहेगी
पल पल जान जाती रहेगी
जब तक जिस्*म में है जान सांस आपसे प्*यार निभाती रहेगी”

sombirnaamdev
21-01-2012, 11:53 PM
दुआवों में इक दुआ हमारी जिसमें मांगी हमने हर खुशी तुम्*हारी
जब भी मुस्*कुराओं दिल से
समझों कबूल दुआ हमारी ”

* * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * *

“ये दुरियॉ अजीब सी लगती है
अपनी बात हुये मुददत सी लगती है
तुम्*हारी दोस्*ती अब जरूरत सी लगती है ”

* * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * *

“हमारे दिल में छडकन आपकी सुनाई देती है
आखों में सूरत उनकी दिखाई देती है
चलते तो हम है लेकिन
जब मुडते है तो पंरछाई आपकी दखिई देती है”

* * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * *

“ ना छुपाना कोई बात दिल में हो अगर
रखना थोडा भरोसा तुम हम पर
हम निभायेगें दोस्*ती का रिश्*ता इस कदर
कि भूलाने पर भी ना भूला पायेगें हमें जिन्*दीभर”

* * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * *

“दोस्*ती दिल है दिमाक नहीं
दोस्*ती सोच है आवाज नहीं
कोई आखों से नहीं देख सकता दोस्*ती के जज्*बे
क्*योंकि दोस्*ती अहसास है अन्*दाज नहीं”

sombirnaamdev
21-01-2012, 11:53 PM
“तुझे ही आना मुकद्रदर बनाते है हम
खुदा से पहले तेरे आगे सर झुकाते है हम
दोस्*ती का रिश्*ता कभी तोड ना देना
जिस रिश्*ते के दम पर मुस्*कुराहते है हम ”

* * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * *

“खुशी आपके लिये गम मेरे लिय
जिन्*दगी आपके लिये मौन मेरे लिय
मुस्*कुराना आपके लिये आंसू मेरे लिये
सब कुछ आपके लिए और आप सिर्फ मेरे लिये ”

* * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * *

“तेरी दोस्*ती में इक नशा है
तभी तो ये सारी दुनिया हमसे खफा है
ना करों हमसे इतनी दोस्*ती
कि दिल ही हमसे पूछे तेरी घडकन कहॅ हैं ”

* * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * *

“हर कभी तुझसे खुश्*बू उधार मांगे
आफता तुमसे नूर उधार मांगे
रब करके तु दोस्*ती ऐसी निभाये
कि लोग मुझसे तेरी दोस्*ती उधार मांगे”

* * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * *

“भूलाना तुम्*हे ना आसान होगा
जो भूले तुम्*हे वो नादान होगा
आप तो बसते हो रूह में हमारी
बाप हमें ना भूले ये आपका अहसास होगा ”

* * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * *

“अक्*सर जब हम आपकों याद करते है
अपने रब से यही फरियाद करते है
अम्र हमारी भी लग जाये आपकों
क्*योंकि हम आपकों खुद से ज्*यादा प्*यार करते है ”

* * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * *

“न कभी ये छुपाना कि प्*यार कितना हैं
ना कभी ये जताना की दर्द कितना है
बस एक हमें उस खुदा को है मालूम
कि तूमसे मुलाकात की इन्*तजार कितना है ”

* * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * *

“तन्*हाई में फरियाद तो कर सकते हैं
बीाने का आबाद तो कर सकते है
क्*या हुआ तुम्*हे मिल नहीं सकते
लेकिन तुम्*हे याद तो कर सकते हैं ”

sombirnaamdev
25-01-2012, 12:30 AM
कितनी जल्दी ये
मुलाक़ात गुज़र जाती है ,

प्यास बुझती नही बरसात गुज़र जाती है,

अपनी यादों से कह दो न आया करें,

नींद आती नही और रात गुज़र जाती है.

sombirnaamdev
25-01-2012, 12:31 AM
ऐ दोस्त तेरी दोस्ती पर नाज़ करते है

हर वक्त मिलने की फरियाद करते है

हमे नही पता लेकिन घरवाले बताते है

कि हम नींद में भी आपसे बात करते हैं

sombirnaamdev
25-01-2012, 12:32 AM
चिरागों से अगर अंधेरे दूर होते तो

चांदनी की चाहत किसे होती,

कट सकती अगर ये जिंदगी अकेले तो

दोस्त नाम की चीज़ ही क्यों होती



हमे हँसने हँसाने की आदत है,

नज़रों से नज़रें मिलाने की आदत है,

पर हमारी नज़र तो उनसे है जा मिली,

जिन्हें नज़रें झुका के शर्माने की आदत है

sombirnaamdev
25-01-2012, 12:34 AM
सांसों मैं डाल कर रखना

दिल के पिंजरे मैं पाल कर रखना

टूटे दिल को सकूं देंगी ये यादें

इन यादों को सदा सम्हाल कर रखना



फिर चुपके से याद आ गया कोई,

मेरी आखों को फिर रुला गया कोई,

कैसे उसका शुक्रिया अदा करें,

मुझ नाचीज़ को शायर बना गया कोई.

sombirnaamdev
25-01-2012, 12:36 AM
पत्ती-पत्ती गुलाब क्या होगी,

हर कली महज ख्वाब क्या होगी !

जिसने लाखों हसीं देखे हो,

उसकी नियत ख़राब क्या होगी !!



सुनो गौर से पेप्सी वालो,

बुरी नज़र न कोक पे डालो

चाहे इतना ड्यू पिला लो,

सबसे आगे होगा नीम्बू पानी !

sombirnaamdev
12-02-2012, 12:08 AM
को i दिखा के रोये ,
कोई छुपा के रोये ,
हमें रुलाने वाले हमें रुलाके रोये ,
मरने का मज़ा तो तब है यारों
जब कातिल भ i ज़नाजे पर आके रोये

sombirnaamdev
12-02-2012, 12:10 AM
Wo likhte hain hamara naam mitti mein,
Aur mita dete hain,
Unke liye to ye khel hoga magar,
Hamein to wo mitti mein mila dete hain…
वो लिखते हैं हमारा नाम मिटटी में ,
और मिटा देते हैं ,
उनके लिए तो ये खेल होगा मगर ,
हमें तो वो मिटटी में मिला देते हैं …

sombirnaamdev
12-02-2012, 12:13 AM
Dard ka ehsas janna hai to pyar kar ke dekho
Apni aankhon main kisi ko utar kar dekho
Chot un ko lage gi aansoo tumhein aa jayein ge
Ye ehsas janna ho to dil haar kar dekho…
दर्द का एहसास जानना है तो प्यार कर के देखो
अपनी आँखों मैं किसी को उतर कर देखो
चोट उन को लगे गी आंसू तुम्हें आ जायेगे
ये एहसास जानना हो तो दिल हार कर देखो …

sombirnaamdev
12-02-2012, 12:16 AM
ना दिल से होता है,

ना दिमाग से होता है,

यह प्यार तो इत्तेफाक से होता है,

पर प्यार करके प्यार ही मिले,

ये इत्तेफाक किसी किसी के साथ होता है 1

sombirnaamdev
12-02-2012, 12:16 AM
कोई रिश्ता टूट जाये दुख तो होता है,
अपने हो जायें पराये दुख तो होता है,

माना हम नहीं प्यार के काबिल

मगर इस तरह कोई ठुकराये दुख तो होता है।

sombirnaamdev
12-02-2012, 12:17 AM
वो समझें या ना समझें मेरे जजबात को,

मुझे तो मानना पड़ेगा उनकी हर बात को,

हम तो चले जायेंगे इस दुनिया से,

मगर आंसू बहायेंगे वो हर रात को………

sombirnaamdev
12-02-2012, 12:17 AM
जो आपने न लिया हो, ऐसा कोई इम्तहान न रहा,
इंसान आखिर मोहब्बत में इंसान न रहा,

है कोई बस्ती, जहां से न उठा हो ज़नाज़ा दीवाने का,

आशिक की कुर्बत से महरूम कोई कब्रिस्तान न रहा,

sombirnaamdev
15-02-2012, 04:50 PM
'परिंदे भी नहीं रहते पराये आशियानों में,
हमने जिंदगी गुजारी है किराये के मकानों में।

sombirnaamdev
15-02-2012, 04:51 PM
दुश्मनों ने तो ज़ख्म देने ही थे,
ये उनकी फितरत थी!
दोस्तों ने भी जब दगा की,
यह हमारी किस्मत थी!!

sombirnaamdev
15-02-2012, 04:51 PM
अपने जज्बात को,
नाहक ही सजा देती हूँ...
होते ही शाम,
चरागों को बुझा देती हूँ...
जब राहत का,
मिलता ना बहाना कोई...
लिखती हूँ हथेली पे नाम तेरा,
लिख के मिटा देती हूँ...........

sombirnaamdev
15-02-2012, 04:52 PM
इन्तजार किसका...
खुदा
- मजा
तो हमने इंतजार मे देखा है,
चाहत का असर प्यार मे देखा है,
लोग ढुंढते है जिसे मंदिर मस्जिद मे,
उस खुदाको मैने आपमे देखा है

sombirnaamdev
24-02-2012, 12:28 AM
दोस्ती तो एक झोका हैं हवा का !
दोस्ती तो एक नाम हैं वफ़ा का...!!
औरो के लिए चाहे कुछ भी हो !
हमारे लिए तो दोस्ती हसीन तोफा हैं खुदा का !!

sombirnaamdev
24-02-2012, 12:28 AM
भूल कर तो देखो एक बार हमें !
जिंदगी की हर अदा तुमसे रूठ जाएगी !!
जब भी सोचोगे अपनों के बारे में !
तुम्हे हमारी याद जरुर आएगी !!

sombirnaamdev
24-02-2012, 12:28 AM
तू मेरी चाहत पर एक एहसान कर !
अपने सारे गम तू मेरे नाम कर....!!
जो लम्हे रुलाते हैं तुझे याद बनकर !
वो आंसू मेरी नजरो के नाम कर...!!

sombirnaamdev
24-02-2012, 12:29 AM
दर्द में दर्द की तलाश कब तक !
जो नहीं आए उसका इंतज़ार कब तक !!
खुद के यकीन पर अब तो शक हो चला हैं !
एक झूठी आस पर ये ख्वाब कब तक

sombirnaamdev
24-02-2012, 12:29 AM
दिल में एक छोटासा आशियाना हैं !
वहाँ पे एक छोटासा नजराना हैं....!!
पर ये बात सब से छुपाना हैं...!
की वाही पे तो जान आपका ठिकाना हैं !!

sombirnaamdev
24-02-2012, 12:29 AM
कौन जाने कब मौत का पैगाम आ जाये !
जिंदगी की आखरी शाम आ जाये....!!
हम तो ढूंढते हैं वक्त ऐसा....!
जब हमारी जिंदगी आपके काम आ जाये !!

(२) मोहब्बत के सपने दिखाते बहुत हैं !
वो रातों में हमको जगाते बहुत हैं !!
मैं आँखों में काजल लगाऊ तो कैसे !
इन आँखों को लोग रुलाते बहुत हैं !!

(३) तेरे होने पर खुद को तनहा समझू !
मैं बेवफा हूँ या तुझको बेवफा समझू !!
ज़ख्म भी देते हो मलहम भी लगाते हो !
ये तेरी आदत हैं या इसे तेरी अदा समझू !!

sombirnaamdev
24-02-2012, 12:30 AM
(४) यादें तो दिलों को और पास करती हैं !
ज़िन्दगी आप के होने पर नाज़ करती हैं !!
मत हो उदाश की आप दूर हो हमसे...!
क्योकि दूरियाँ ही रिश्तो का एहसास कराती हैं !!

(५) दोस्ती ज़िन्दगी में रौशनी कर देती हैं !
हर ख़ुशी को दोगुनी कर देती हैं.....!!
कभी झूम के बरसती हैं बंज़र दिल पे !
कभी अमावस को चांदनी कर देती हैं !!

sombirnaamdev
24-02-2012, 12:30 AM
(१) वफ़ा करते रहे हम इबादत की तरह !
फिर इबादत खुद एक गुनाह हो गई !!
कितना सुहाना था सफर जब साथ थी तुम !
फिर क्या हुवा की मंजिल जुदा हो गई !!

(२) दिल के सारे अरमान ले जाते हैं !
हम से हमारी पहचान ले जाते हैं !!
बेपनाह न चाहना किसी को एय दोस्त !
क्योकि जान कहने वाले ही जान ले जाते हैं !!

(३) जीने के लिए जान जरुरी हैं !
हमारे लिए तो आप जरुरी हैं !!
मेरे चेहरे पे चाहे गम हो.....!
आपके चेहरे पे मुश्कान जरुरी हैं !!

(४) ये दोस्ती चिराग हैं जलाए रखना !
दोस्ती खुशबू हैं महकाए रखना....!!
हम रहे आपके दिल में हमेशा के लिए !
इतनी जगह दिल में हमारे लिए बनाए रखना !!

(५) सभ कुछ मिला सकून की दौलत नहीं मिली !
तुझसे मुलाक़ात की मोहलत नहीं मिली....!!
करने को और भी काम थे मगर !
हमको तेरी याद से फुरसत नहीं मिली !!

sombirnaamdev
24-02-2012, 12:31 AM
दोस्ती ज़िन्दगी में रौशनी कर देती हैं !
हर ख़ुशी को दोगुनी कर देती हैं.....!!
कभी झूम के बरसती हैं बंज़र दिल पे !
कभी अमावस को चांदनी कर देती हैं !!

sombirnaamdev
24-02-2012, 12:31 AM
ये दोस्ती चिराग हैं जलाए रखना !
दोस्ती खुशबू हैं महकाए रखना....!!
हम रहे आपके दिल में हमेशा के लिए !
इतनी जगह दिल में हमारे लिए बनाए रखना !!

sombirnaamdev
24-02-2012, 12:31 AM
दिल प्यार में बेक़रार भी होता हैं !
दोस्ती में थोड़ा इंतज़ार भी होता हैं !!
होती नहीं प्यार में दोस्ती.....!
पर दोस्ती में शामिल प्यार भी होता हैं !!

sombirnaamdev
24-02-2012, 12:32 AM
दिल में एक छोटासा आशियाना हैं !
वहाँ पे एक छोटासा नजराना हैं....!!
पर ये बात सब से छुपाना हैं...!
की वाही पे तो जान आपका ठिकाना हैं !!

sombirnaamdev
24-02-2012, 12:32 AM
तू मेरी चाहत पर एक एहसान कर !
अपने सारे गम तू मेरे नाम कर....!!
जो लम्हे रुलाते हैं तुझे याद बनकर !
वो आंसू मेरी नजरो के नाम कर.

sombirnaamdev
24-02-2012, 12:33 AM
कौन जाने कब मौत का पैगाम आ जाये !
जिंदगी की आखरी शाम आ जाये....!!
हम तो ढूंढते हैं वक्त ऐसा....!
जब हमारी जिंदगी आपके काम आ जाये !

sombirnaamdev
24-02-2012, 12:33 AM
दिल की धड़कन को धड़का गया कोई !
मेरे ख्वाबो को महका गया कोई......!!
हम तो अनजाने रास्ते पे चल रहे थे !
अचानक ही प्यार का मतलब सिखा गया कोई !

sombirnaamdev
24-02-2012, 12:33 AM
आपके आने से जिंदगी कितनी खुबसूरत हैं !
दिल में बसाई हैं जो वो आपकी ही सूरत हैं !!
दूर जाना नहीं कभी हमसे भूल कर भी.....!
हमें हर कदम पर आपकी जरुरत हैं......!!

sombirnaamdev
24-02-2012, 12:33 AM
दिल तो उसके सिने में भी मचलता होगा !
हुस्न भी सौ - सौ रंग बदलता होगा.....!!
उठती होगी जब निगाहें उनकी........!
खुद खुदा भी गीर - गीर के संभालता होगा !!

sombirnaamdev
24-02-2012, 12:34 AM
सोच को बदलो सितारे बदल जायेंगे !
नज़र को बदलो नज़ारे बदल जायेंगे !!
कश्तियाँ बदलने की जरुरत नहीं !
दिशाओं को बदलो किनारे बदल जायेंगे !!

sombirnaamdev
24-02-2012, 12:34 AM
तू कही भी रह सर पे तेरा इलज़ाम तो हैं !
तेरे हाथों की लकीर में मेरा नाम तो हैं !!
मुझे अपना बना या न बना ये तेरी मर्जी !
पर तू मेरे नाम से बदनाम तो हैं....!!

sombirnaamdev
26-02-2012, 05:12 PM
दिल चाहता है


दोस्ती उन से करो जो निभाना जानते हो............... नफ़रत उन से करो जो
भूलना जानते हो................ ग़ुस्सा उन से करो जो मानना जनता
हो........... प्यार उनसे करो जो दिल लुटाना जनते हो***

***आज तक
बहुत कुछ खोया है हमने,
लेकिन आज कुछ पाने को दिल चाहता है,

हर
हालात को ख़ुशी से कुबूल किया है हमने,
लेकिन आज उनसे लड़ने को दिल
चाहता है,

अब तक तन्हा थे जिंदगी में हम,
लेकिन अब किसी को अपना
बनाने को दिल चाहता है,

ना जाने कब से नहीं सोये हैं हम,
लेकिन
आज जी भरके सोने को दिल चाहता है,

चलते चलते बहुत थक गए हैं हम,
लेकिन
आज एक जगह रुक जाने को दिल चाहता है,

हर बात को हँस कर टाल देते थे
हम,
लेकिन ना जाने क्यूँ आज रोने को दिल चाहता है,

आज तक जिए
हैं हम सबकी ख़ुशी के लिए ,
लेकिन आज सिर्फ खुद के लिए जीने को दिल
चाहता है,

अब तक हर कदम रखा है हमने संभाल के ,
लेकिन आज बहक
जाने को दिल चाहता है,

हर कोई छोड़ जाता है बीच राह में हमे,
लेकिन
आज सबको तन्हा छोड़ जाने का दिल चाहता है..:(

sombirnaamdev
02-03-2012, 08:45 PM
दोस्तों की कमी को पहचानते हैं हम

दुनिया के गमो को भी जानते हैं हम

आप जैसे दोस्तों का सहारा है

तभी तो आज भी हँसकर जीना जानते हैं हम

sombirnaamdev
02-03-2012, 08:45 PM
आज हम हैं कल हमारी यादें होंगी

जब हम ना होंगे तब हमारी बातें होंगी

कभी पलटोगे जिंदगी के ये पन्ने

तब शायद आपकी आंखों से भी बरसातें होंगी

sombirnaamdev
02-03-2012, 08:45 PM
कोई दौलत पर नाज़ करते हैं

कोई शोहरत पर नाज़ करते हैं

जिसके साथ आप जैसा दोस्त हो

वो अपनी किस्मत पर नाज़ करते हैं

sombirnaamdev
02-03-2012, 08:45 PM
हर खुशी दिल के करीब नहीं होती

ज़िंदगी ग़मों से दूर नहीं होती

इस दोस्ती को संभाल कर रखना

क्यूंकि दोस्ती हर किसी को नसीब नहीं होती

sombirnaamdev
02-03-2012, 08:46 PM
रेत पर नाम लिखते नहीं

रेत पर लिखे नाम कभी टिकते नहीं

लोग कहते हैं पत्थर दिल हैं हम

लेकिन पत्थरों पर लिखे नाम कभी मिटते नहीं

sombirnaamdev
02-03-2012, 08:46 PM
दिल से दिल की दूरी नहीं होती

काश कोई मज़बूरी नहीं होती

आपसे अभी मिलाने की तमन्ना है

लेकिन कहते हैं हर तमन्ना पुरी नहीं होती

sombirnaamdev
02-03-2012, 08:46 PM
फूलों से हसीं मुस्कान हो आपकी

चाँद सितारों से ज्यादा शान हो आपकी

ज़िंदगी का सिर्फ़ एक मकसद हो आपका

कि आंसमा से ऊँची उड़ान हो आपकी

sombirnaamdev
02-03-2012, 08:47 PM
वक्त के पन्ने पलटकर

फ़िर वो हसीं लम्हे जीने को दिल चाहता है

कभी मुशाकराते थे सभी दोस्त मिलकर

अब उन्हें साथ देखने को दिल तरस जाता है

sombirnaamdev
10-03-2012, 09:31 PM
ना दिल से होता है ना दिमाक से होता है
ये प्*यार तो इतफाक से होता है
और क्*या कहे प्*यार करके भी
प्*यार न मिले ये इतफाक सिर्फ हामारे साथ होता हैं

sombirnaamdev
10-03-2012, 09:31 PM
“आंसू पौछकर हंसाया है मुझे
मेरी गलती पर भी सीने से लगाया है मुझे
कैसे प्*यार न हो ऐसे दोस्*त से
जिसकी दोस्*ती ने जीना सिखाया है मुझै ”

sombirnaamdev
10-03-2012, 09:31 PM
तु दिल में ना जाये तो मैं क्*या करू तु ख्*यालों से ना जाये तो मैं क्*या करू
कहते है ख्*वावों में होगी मुलाकात उनसे
पर नींद न आये तो मैं क्*या करू ”

* * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * *

“प्*यार गुनाह है तो होने ना देना
प्*यार खुदा है तो खोने ना देना
करते हो प्*यार जब किसी से तो
कभी उस प्*यार को रोने ना देना ”

* * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * *
“बिकता अगर प्*यार जो कौन नहीं खरीदता
बिकती अगर खुशियां तो कौन उसे बेचता
दर्द अगर बिकता तो हम आपसे खरीद लेते
और आपकी खुशियों के लिए हम खुद को बेच देते”

sombirnaamdev
10-03-2012, 09:31 PM
काश खुशियों की कोई दुकान होती हमें भी उसकी पहचान होती
भर देते आपकी जिन्*दगी को खुशियों से
किमत चाहे उसकी हमारी जान होती ”

sombirnaamdev
10-03-2012, 09:32 PM
“कोई ऐसा दोस्*त बनाया जावे
जिसके आंसू को पलकों में छुपाया जाये
रहे उसका मेरा रिश्*ता कुछ ऐसा
कि अगर वो उदास हो तो हमसे भी ना मुस्*कुराया जावें ”

sombirnaamdev
10-03-2012, 09:32 PM
“जिन्*दगी की राहों में बहुत से यार मिलेगें
हम क्*या हमसे भी अच्*छे हजार मिलेगें
इन अच्*छों की भीड में हमे ना भूला देना
हम कहॉ आपको बार बार मिलेगें ”

sombirnaamdev
10-03-2012, 09:32 PM
“दिल में बसता है दिल ए यार
जब चाहा सर झुकाया और कर लिया दिदार
आखों में है आपके प्*यार का सरूर
आप ही ना जाने हमारा क्*या कसूर ”

sombirnaamdev
10-03-2012, 09:32 PM
“आप पास रहे या दूर
हम दिल से दिल की आवाज मिला सकते है
ना खत के, ना टेलिफोन के मौहजात है हम
आपके दिल को एक हिचकी से हिला सकते है हम ”

sombirnaamdev
18-03-2012, 07:14 PM
ना दिल से होता है ना दिमाक से होता है
ये प्*यार तो इतफाक से होता है
और क्*या कहे प्*यार करके भी
प्*यार न मिले ये इतफाक सिर्फ हामारे साथ होता हैं

sombirnaamdev
18-03-2012, 07:14 PM
“आंसू पौछकर हंसाया है मुझे
मेरी गलती पर भी सीने से लगाया है मुझे
कैसे प्*यार न हो ऐसे दोस्*त से
जिसकी दोस्*ती ने जीना सिखाया है मुझै ”

sombirnaamdev
18-03-2012, 07:15 PM
“तु दिल में ना जाये तो मैं क्*या करू
तु ख्*यालों से ना जाये तो मैं क्*या करू
कहते है ख्*वावों में होगी मुलाकात उनसे
पर नींद न आये तो मैं क्*या करू ”

sombirnaamdev
18-03-2012, 07:15 PM
“प्*यार गुनाह है तो होने ना देना
प्*यार खुदा है तो खोने ना देना
करते हो प्*यार जब किसी से तो
कभी उस प्*यार को रोने ना देना ”

sombirnaamdev
18-03-2012, 07:15 PM
“बिकता अगर प्*यार जो कौन नहीं खरीदता
बिकती अगर खुशियां तो कौन उसे बेचता
दर्द अगर बिकता तो हम आपसे खरीद लेते
और आपकी खुशियों के लिए हम खुद को बेच देते”

sombirnaamdev
18-03-2012, 07:15 PM
“काश खुशियों की कोई दुकान होती
हमें भी उसकी पहचान होती
भर देते आपकी जिन्*दगी को खुशियों से
किमत चाहे उसकी हमारी जान होती ”

sombirnaamdev
18-03-2012, 07:15 PM
“कोई ऐसा दोस्*त बनाया जावे
जिसके आंसू को पलकों में छुपाया जाये
रहे उसका मेरा रिश्*ता कुछ ऐसा
कि अगर वो उदास हो तो हमसे भी ना मुस्*कुराया जावें ”

sombirnaamdev
18-03-2012, 07:16 PM
“जिन्*दगी की राहों में बहुत से यार मिलेगें
हम क्*या हमसे भी अच्*छे हजार मिलेगें
इन अच्*छों की भीड में हमे ना भूला देना
हम कहॉ आपको बार बार मिलेगें

sombirnaamdev
18-03-2012, 07:16 PM
“दिल में बसता है दिल ए यार
जब चाहा सर झुकाया और कर लिया दिदार
आखों में है आपके प्*यार का सरूर
आप ही ना जाने हमारा क्*या कसूर

sombirnaamdev
18-03-2012, 07:16 PM
“आप पास रहे या दूर
हम दिल से दिल की आवाज मिला सकते है
ना खत के, ना टेलिफोन के मौहजात है हम
आपके दिल को एक हिचकी से हिला सकते है हम ”

sombirnaamdev
18-03-2012, 07:16 PM
“ए दोस्*त तेरी दोस्*ती ये नाज करते है
हर बकत मिलने की फरियाद करते है
हमें नही पता घरवाले बताते है
के हम नीदं में भी आपके बात करते हैं ”

sombirnaamdev
18-03-2012, 07:17 PM
“अपने दिल की सूनी अफवाहों से काम ना ले
मुझै याद रख बेशक मेरा नाम ना ले
तेरा बहम है के मैं भूला दूंगा तुझे
मेरी कोई ऐसी सांस नहीं जो तेरा नाम न ले ”

sombirnaamdev
18-03-2012, 07:17 PM
“दोस्ती से आज प्यार शरमाया है
तेरी चाहत ने कुछ ऐसा गजब ढाया है
खुदा से क्या तुझे मांगे, वो तो आज खुद
मुझ से मुझ जैसा मांगने आया है”