My Hindi Forum

Go Back   My Hindi Forum > Members List

आकाश महेशपुरी is a splendid one to beholdआकाश महेशपुरी is a splendid one to beholdआकाश महेशपुरी is a splendid one to beholdआकाश महेशपुरी is a splendid one to beholdआकाश महेशपुरी is a splendid one to beholdआकाश महेशपुरी is a splendid one to beholdआकाश महेशपुरी is a splendid one to beholdआकाश महेशपुरी is a splendid one to behold

आकाश महेशपुरी आकाश महेशपुरी is offline

Senior Member

Visitor Messages

Showing Visitor Messages 1 to 10 of 179
  1. rajnish manga
    20-04-2016 05:10 PM
    rajnish manga
  2. आकाश महेशपुरी
    कुछ दोहे-

    कानों पर होता नहीं, तनिक मुझे विश्वास।
    गाली देते देश को, इसके ही कुछ खास।।१।।
    ~~~
    अपनी ही वह सम्पदा, कर देते हैं नष्ट।
    और माँगते भीख तो, सुनकर होता कष्ट।।२।।
    ~~~
    हम सबके ही वास्ते, सैनिक देते जान।
    जाति-धर्म के नाम पर, क्यों लड़ते नादान।।३।।
    ~~~
    एक धर्म होता अगर, होती दुनिया एक।
    बिना किसी मतभेद क्या, होते युद्ध अनेक।।४।।

    दोहे- आकाश महेशपुरी
    ~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~
    पता-
    वकील कुशवाहा 'आकाश महेशपुरी'
    ग्राम- महेशपुर
    पोस्ट कुबेरस्थान
    जनपद- कुशीनगर
    उत्तर प्रदेश
    09919080399
  3. आकाश महेशपुरी
    गीतिका- ये स्वप्न...
    मापनी- 221 2121 1221 212
    ~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~
    ये स्वप्न मेरे' स्वप्न हैं' फलते कभी नहीं।
    बंजर में' जैसै' फूल निकलते कभी नहीं।।

    उपदेश दे रहे हैं' हमें रोज क्या कहें,
    सच्चाइयों की' राह जो' चलते कभी नहीं।

    माना यहाँ है' रात कहीं धूप है मगर,
    ये टिमटिमा रहे हैं' जो' ढलते कभी नहीं

    कितनी बड़ी है' भूल जरा आप सोचिये
    चीनी का' उनको' रोग टहलते कभी नहीं

    जो पाव लड़खड़ाए' तो' गिरना है' सोच लो
    ऊँचाइयों की' ओर फिसलते कभी नहीं

    'आकाश' हौसलों की' भले बात लाख हो
    पर वक्त के मा'रे तो' सं'भलते कभी नहीं

    गीतिका- आकाश महेशपुरी
    ~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~
    पता-
    वकील कुशवाहा 'आकाश महेशपुरी'
    ग्राम- महेशपुर
    पोस्ट कुबेरस्थान
    जनपद- कुशीनगर
    उत्तर प्रदेश
    09919080399
  4. आकाश महेशपुरी
    गीतिका को समर्पित गीतिका
    ~~~
    दिल को' करती है' हर्षित विधा गीतिका,
    अब तो' सबको समर्पित विधा गीतिका।
    ~~~
    है न चोरी का' भय ही, न खोने का' डर,
    दिल के' पन्नों में' रक्षित विधा गीतिका।
    ~~~
    हक मिला है इसे आज सम्मान का,
    जाने' कब से थी' वंचित विधा गीतिका।
    ~~~
    हम सभी ने स'म्हाला इसे प्यार से,
    अब न होगी ये' खंडित विधा गीतिका।
    ~~~
    ये तो' "आका'श" को भी पराजित करे,
    सबकी' बन जाये' वंदित विधा गीतिका

    गीतिका- आकाश महेशपुरी
    ~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~
    पता-
    वकील कुशवाहा "आकाश महेशपुरी"
    ग्राम- महेशपुर
    पोस्ट- कुबेरस्थान
    कुशीनगर
    उ प्र.
  5. rajnish manga
    02-02-2016 08:32 AM
    rajnish manga
    http://myhindiforum.com/showthread.p...022#post557022
    कृपया उपरोक्त लिंक पर मेरी कविता पढ़ें और अपनी राय से अवगत करायें.
  6. आकाश महेशपुरी
    ग़ज़ल/गीतिका
    _____________________________
    ये' कलयुग है यहाँ तो पाप को मिलता ठिकाना है
    कि सच मैं बोल कर टूटा बड़ा झूठा जमाना है

    यहाँ पर पाप हैं करते कि हम औ आप हैं करते
    बहुत दौलत जुटा कर भी हमें सब छोड़ जाना है

    न पूछो हाल कैसे हो गुजारा हो रहा कैसे
    मे'री मजबूरियों पे क्या तुझे फिर मुस्कुराना है

    हैं' यादें आज भी मेरा कलेजा चीर देतीं जो
    वही यादें बचीं मुश्किल जि'न्हें अब भूल पाना है

    भला 'आकाश' तुमसे हम शिकायत किसलिए करते
    तु'म्हारा काम जब केवल सभी का दिल दुखाना है

    ग़ज़ल- आकाश महेशपुरी
    _____________________________
    पता-
    वकील कुशवाहा 'आकाश महेशपुरी'
    ग्राम- महेशपुर, पोस्ट- कुबेरस्थान, जनपद- कुशीनगर, उत्तर प्रदेश
  7. rajnish manga
    19-12-2015 09:46 PM
    rajnish manga
    कृपया निम्न link पर मेरी कविता 'आपकी बेटी, निर्भया' पढ़ कर अपनी राय से अवगत करायें. धन्यवाद.
    http://myhindiforum.com/showthread.php?t=14327
  8. आकाश महेशपुरी
    घनाक्षरी छन्द-
    ~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~
    कितने बेचैन होके काम रोज करते हैं, जीने के लिए ही बार बार हाय मरते।
    जिन्दगी मिली है सच कहती है दुनिया ये, पर कहाँ पर है तलाश रोज करते।
    हमको तो लगता कि दुख ही की दुनिया ये, दुख से ही दुख में ही दुख हम भरते।
    इसीलिए दुख के पहाड़ हों या झील कोई, दुखी हम इतने कि दुख सब डरते।

    घनाक्षरी छन्द- आकाश महेशपुरी
    ~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~
    पता-
    वकील कुशवाहा "आकाश महेशपुरी"
    ग्राम- महेशपुर, पोस्ट- कुबेरस्थान, जनपद- कुशीनगर. उ प्र.
  9. rajnish manga
    05-12-2015 10:23 AM
    rajnish manga
    कृपया निम्नलिखित link पर पोस्ट की गई कविता पर अपनी राय से अवगत करायें. धन्यवाद.
    http://myhindiforum.com/showthread.php?t=16374
  10. आकाश महेशपुरी
    देखल जा खूब ठेलम ठेल
    रहे इहाँ जब छोटकी रेल
    चढ़े लोग जत्था के जत्था
    छूटे सगरी देहि के बत्था
    चेन पुलिग के रहे जमाना
    रुके ट्रेन तब कहाँ कहाँ ना
    डब्बा डब्बा लोगवा धावे
    टिकट कहाँ केहू कटवावे
    कटवावे उ होई महाने
    बाकी सब के रामे जाने
    जँगला से सइकिल लटका के
    बइठे लोग छते पर जा के
    रे बाप रे देखनी लीला
    चढ़ल रहे ऊ ले के पीला
    छतवे पर कुछ लोग पटा के
    चलत रहे केहू अङ्हुआ के
    छते पर के ऊ चढ़वैइया
    साइत बारे के पढ़वइया
    दउरे डब्बा से डब्बा पर
    ना लागे ओके तनिको डर
    कि बनल रहे लइकन के खेल
    रहे इहाँ जब छोटकी रेल
    भितरो तनिक रहे ना सासत
    केहू छींके केहू खासत
    केहू सब केहू के ठेलत
    सभे रहे तब सबके झेलत
    ऊपर से जूता लटका के
    बरचा पर बइठे लो जाके
    जूता के बदबू से भाई
    कि जात रहे सभे अगुताई
    ट्रेने में ऊ फेरी वाला
    खुलाहा मुँह रहे ना ताला
    दारूबाजन के हंगामा
    पूर्णविराम ना रहे कामा
    असली होखे भीड़ भड़ाका
    इस्टेशन जब रूके चाका
    पीछे से धाका पर धाका
    इस्टेशन जब रूके चाका
    कि लागे जइसे परल डाका
    इस्टेशन जब रूके चाका
    ना पास रहे ना रहे फेल
    रहे इहाँ जब छोटकी रेल
    बड़की के अब बात सुनाता
    देखअ कि केतना सुधियाता

    कविता- आकाश महेशपुरी

About Me

  • About आकाश महेशपुरी
    Location
    कुशीनगर यू॰ पी॰

Statistics

Total Posts
Visitor Messages
Total Thanks
General Information
  • Last Activity: 20-08-2017 03:17 AM
  • Join Date: 30-05-2013

Friends

Showing Friends 1 to 3 of 3

Contact Info

Instant Messaging
Send an Instant Message to आकाश महेशपुरी Using...
This Page
http://myhindiforum.com/member.php?u=9537

All times are GMT +5.5. The time now is 09:14 PM.


Powered by: vBulletin
Copyright ©2000 - 2017, Jelsoft Enterprises Ltd.
MyHindiForum.com is not responsible for the views and opinion of the posters. The posters and only posters shall be liable for any copyright infringement.