View Single Post
Old 21-04-2017, 03:11 PM   #2
Rajat Vynar
Diligent Member
 
Rajat Vynar's Avatar
 
Join Date: Sep 2014
Posts: 1,055
Thanks: 646
Thanked 372 Times in 272 Posts
Rep Power: 23
Rajat Vynar has a brilliant futureRajat Vynar has a brilliant futureRajat Vynar has a brilliant futureRajat Vynar has a brilliant futureRajat Vynar has a brilliant futureRajat Vynar has a brilliant futureRajat Vynar has a brilliant futureRajat Vynar has a brilliant futureRajat Vynar has a brilliant futureRajat Vynar has a brilliant futureRajat Vynar has a brilliant future
Talking Re: मॉल का नया ऑफ़र

दोस्तों,

पाठकों की ओर से कोई प्रतिक्रिया या सलाह नहीं आ रही है। तब तक मनोरंजन के लिए पढ़ते हैं एक मज़ेदार कहानी-

बेवकूफ गधे की कहानी

एक जंगल में एक शेर रहता था जो कुछ बूढा हो चुका था। शेर अकेला ही रहता था। कहने को तो वह शेर था, किन्तु उसमें शेरों जैसी कोई बात न थी। अपनी जवानी में वह सारे शेरों से लड़ाई में हार चुका था। अब उसके जीवन में उसका एकमात्र दोस्त एक गीदड़ ही था। वह गीदड़ अव्वल दर्जे का चापलूस था। शेर को एक ऐसे चमचे की ज़रूरत थी जो उसके साथ रहता और गीदड़ को भी बिना मेहनत का खाना चाहिए था।

एक बार शेर ने एक साँड पर हमला कर दिया। साँड भी गुस्से में आ गया। उसने शेर को उठा कर दूर पटक दिया। इस से शेर को काफी चोट आई। किसी तरह शेर अपनी जान बचा कर भागा। भागने के कारण शेर की जान तो बच गई, किन्तु जख्म दिन-प्रतिदिन बढ़ता ही जा रहा था। जख्मों और कमजोरी के कारण शेर कई दिन तक शिकार न कर सका और भूख के कारण शेर और गीदड़ की हालत ख़राब होने लगी।

भूख से व्याकुल शेर ने अपने दोस्त गीदड़ से कहा- 'देखो, मैं जख्मी होने के कारण शिकार करने में असमर्थ हूँ। तुम जंगल में जाओ और किसी मूर्ख जानवर को लेकर आओ। मैं यहाँ झाड़ियों के पीछे छिपा रहूँगा और उसके आने पर उस पर हमला कर दूँगा। इस तरह हम दोनों के खाने का इंतेजाम हो जाएगा।'

गीदड़ शेर की आज्ञा के अनुसार किसी मूर्ख जानवर की तलाश करने के लिए निकल पड़ा।

जंगल से बाहर जाकर गीदड़ ने देखा कि एक गधा सूखी हुई घास चर रहा था। गीदड़ को वह गधा देखने में ही मूर्ख लगा।

गीदड़ गधे के पास जाकर बोला- 'नमस्कार चाचा, कैसे हो? बहुत कमजोर लग रहे हो? क्या हुआ?

सहानुभूति पाकर गधा बोला- 'नमस्कार, क्या बताऊँ। मैं जिस धोबी के पास काम करता हूँ, वह दिन भर काम करवाता है और पेट भर चारा भी नहीं देता।'

गीदड़ ने सहानुभूति जताते हुए कहा- 'तो चाचा तुम मेरे साथ जंगल में चलो। जंगल में हरी-हरी घास बहुत है। हरी-हरी ताज़ी घास चरकर आपकी सेहत बन जाएगी।'

गधे ने घबड़ाकर कहा- 'अरे नहीं! मैं जंगल में नहीं जाऊँगा। वहाँ मुझे जंगली जानवर खा जाएँगे।'

गीदड़ ने गधे को बहलाते हुए कहा- 'चाचा, तुम्हें शायद पता नहीं- एक बार जंगल में एक बगुला भगत जी का सत्संग हुआ था। तब से जंगल के सारे जानवर शाकाहारी हो गए हैं।'

गधा प्रसन्न होकर गीदड़ को देखने लगा।

गधे को अपने जाल में फँसता देखकर गीदड़ ने झाँसा देते हुए कहा- 'सुना है- पास के गाँव से अपने मालिक से तंग आकर एक गधी भी जंगल में रहने आई है। शायद उसके साथ तुम्हारा मिलन हो जाए।'

गीदड़ की बात सुनकर गधे के मन में ख़ुशी की लहर दौड़ गयी और वह गीदड़ के साथ जाने के लिए राजी हो गया। गधा जब गीदड़ के साथ जंगल में पहुंचा तो उसे झाड़ियों के पीछे शेर की चमकती हुई आँखें दिखाई दीं। गधे ने आव देखा ना ताव और जान बचाकर सरपट भागने लगा। उसके बाद गधे ने पीछे मुड़कर भी नहीं देखा और जंगल के बाहर जाकर ही दम लिया।

गधे के रफूचक्कर होने के बाद शेर ने शर्मिन्दा होकर गीदड़ से कहा- 'माफ करना। मेरी सुस्ती के कारण इस बार गधा भाग गया। तुम जाकर दोबारा उस बेवक़ूफ़ गधे को फुसलाकर यहाँ लेकर आओ। इस बार कोई गलती न होगी।'

गधे को फुसलाने के लिए एक नई योजना बनाकर गीदड़ एक बार फिर उस गधे के पास पहुँचा और आश्चर्यपूर्वक पूछा- 'अरे चाचा, तुम जंगल से भाग क्यों आये?'

गधे ने कहा- 'न भागता तो और क्या करता? तुम्हें क्या पता? वहाँ झाड़ियों के पीछे शेर छिपा बैठा हुआ था। मुझे अपनी जान प्यारी थी, इसलिए भाग आया।'

गीदड़ ने हँसते हुए कहा- 'हा-हा-हा.. अरे वो शेर नहीं, गधी थी। वही गधी.. जिसके बारे में मैंने आपसे बताया था।'

गधे ने अपना सन्देह व्यक्त किया- 'लेकिन उसकी तो आँखें चमक रहीं थीं?'

गीदड़ ने गधे को मूर्ख बनाते हुए कहा- 'अरे चाचा, इतनी सी बात भी नहीं समझे आप? गधी ने जब आपको देखा तो ख़ुशी के मारे उसकी आँखों में चमक आ गयी। आँखों में चमक आने का मतलब है- गधी आपको देखते ही अपना दिल दे बैठी और आप उससे मिले बिना ही वापस भाग गए।'

गधे को अपनी हरकत पर बहुत पछतावा हुआ। वह गीदड़ की चालाकी को समझ नहीं पाया। समझता भी कैसे? आखिर था तो गधा ही! गधा गीदड़ की बात सच मानकर उसके साथ फिर से जंगल में चला गया। गधा जैसे ही झाड़ियों के पास पहुँचा, इस बार शेर ने कोई गलती नहीं की और उसका शिकार कर अपने और गीदड़ के भोजन का इन्तेजाम कर लिया।

शिक्षा : गलतियाँ सब से होती हैं, किन्तु एक ही गलती बार-बार करने वाला मूर्ख होता है।
__________________
WRITERS are UNACKNOWLEDGED LEGISLATORS of the SOCIETY!
First information: https://twitter.com/rajatvynar
https://rajatvynar.wordpress.com/
Rajat Vynar is offline   Reply With Quote