My Hindi Forum

Go Back   My Hindi Forum > Hindi Forum > Debates

Reply
 
Thread Tools Display Modes
Old 07-06-2015, 08:03 PM   #1
soni pushpa
Diligent Member
 
Join Date: May 2014
Location: east africa
Posts: 1,200
Thanks: 1,319
Thanked 1,000 Times in 712 Posts
Rep Power: 54
soni pushpa has a reputation beyond reputesoni pushpa has a reputation beyond reputesoni pushpa has a reputation beyond reputesoni pushpa has a reputation beyond reputesoni pushpa has a reputation beyond reputesoni pushpa has a reputation beyond reputesoni pushpa has a reputation beyond reputesoni pushpa has a reputation beyond reputesoni pushpa has a reputation beyond reputesoni pushpa has a reputation beyond reputesoni pushpa has a reputation beyond repute
Default कुछ तर्क

हिंदी फोरम के सभी सदस्यों से निवेदन है की कृपया इस बहस में जरुर भाग ले क्यूंकि ये जो विषय मैं यहाँ रखने जा रही हूँ वो सबके जीवन से जुडा हुआ हुआ है और सबके अपने अपने विचार भी अलग से होते हैं इस विषय पर जो की इंसानी जीवन का एक बहुत महत्वपूर्ण अहम् हिस्सा है वो है ...............................शादी............... ..........
आज के समय में मैंने कई जगह देखा और पाया की आजकल शादी में लोग लाखो करोडो रुपयों का खर्च करते हैं जो शादी दो दिन में हुआ करती थी अब उस शादी के प्रोग्राम स ८ से लेकर १० दिन तक के हो जाते हैं

जिसमे खर्च और थकन होतीहै par दूसरा फायदा ये भी है की जो लोग कई बरसो से नहीं मिले होते वे इसीshadi ke बहाने मिल भी जाते हैं और रोज मर्रा के ढर्रे से बहार निकलकर कुछ अलग वातावरण प्राप्त करके फ्रेश हो जाते हैं और कई जगह बरसो से रहे मीठे सम्बन्ध छोटी सी गलतियों की वजह से कड़वाहट में बदल जाते हैं तो कहीं कडवे सम्बन्ध मिठास में परिवर्तित हो जाते हैं ... इस विषय मैं आप सबसे ये जानना चाहूंगी की आजकल जो शादी में भयंकर खर्च किये जाते हैं वो किस हद तक ठीक है ?या फिर ठीक है भी या नहीं ?

मुझे आप सबके विचारों का इंतजार रहेगा ... और हाँ सिर्फ खर्च ही नहीं इस विषय पर आप रिश्तों के विषय में अपने अपने मंतव्य यहाँ रख सकते हैं ..
soni pushpa is offline   Reply With Quote
The Following 3 Users Say Thank You to soni pushpa For This Useful Post:
Deep_ (08-06-2015), Rajat Vynar (07-06-2015), rajnish manga (08-06-2015)
Old 08-06-2015, 01:11 PM   #2
Rajat Vynar
Diligent Member
 
Rajat Vynar's Avatar
 
Join Date: Sep 2014
Posts: 1,033
Thanks: 644
Thanked 367 Times in 267 Posts
Rep Power: 22
Rajat Vynar has a brilliant futureRajat Vynar has a brilliant futureRajat Vynar has a brilliant futureRajat Vynar has a brilliant futureRajat Vynar has a brilliant futureRajat Vynar has a brilliant futureRajat Vynar has a brilliant futureRajat Vynar has a brilliant futureRajat Vynar has a brilliant futureRajat Vynar has a brilliant futureRajat Vynar has a brilliant future
Default Re: कुछ तर्क

बहुत ही अच्छा सूत्र बनाया है आपने, सोनी पुष्पा जी।
__________________
WRITERS are UNACKNOWLEDGED LEGISLATORS of the SOCIETY!
First information: https://twitter.com/rajatvynar
Rajat Vynar is offline   Reply With Quote
Old 09-06-2015, 12:22 AM   #3
soni pushpa
Diligent Member
 
Join Date: May 2014
Location: east africa
Posts: 1,200
Thanks: 1,319
Thanked 1,000 Times in 712 Posts
Rep Power: 54
soni pushpa has a reputation beyond reputesoni pushpa has a reputation beyond reputesoni pushpa has a reputation beyond reputesoni pushpa has a reputation beyond reputesoni pushpa has a reputation beyond reputesoni pushpa has a reputation beyond reputesoni pushpa has a reputation beyond reputesoni pushpa has a reputation beyond reputesoni pushpa has a reputation beyond reputesoni pushpa has a reputation beyond reputesoni pushpa has a reputation beyond repute
Default Re: कुछ तर्क

Quote:
Originally Posted by Rajat Vynar View Post
बहुत ही अच्छा सूत्र बनाया है आपने, सोनी पुष्पा जी।


prasansha ke liye bahut bahut dhanywad rajat ji ....
soni pushpa is offline   Reply With Quote
The Following User Says Thank You to soni pushpa For This Useful Post:
Rajat Vynar (09-06-2015)
Old 09-06-2015, 04:22 PM   #4
manishsqrt
Member
 
Join Date: Jun 2015
Location: varanasi
Posts: 102
Thanks: 2
Thanked 55 Times in 39 Posts
Rep Power: 4
manishsqrt is a jewel in the roughmanishsqrt is a jewel in the roughmanishsqrt is a jewel in the rough
Default Re: कुछ तर्क

aapne kafi achcha mudda uthaya par mai aapki is baat se asahmat hu ki aaj kal shadiyo me jyada din lagte hai aur pahle kam lagte the, vastavikta ye hai ki aaj kal ek do din me shadi nipta di jati hi aur pahle ke time me shadiyo ka janvasa hi ek hafte ka dera dalta tha, ha itana awshya manunga ki pahle samay to jyada lagta tha par fir bhi uske anupaat me faltu kharche kam hote the aur aaj kal dikhawe par adhik kharche hone lage hai jo ki sare ke sare tarkheen hai, 3-4 lakh to bas khane khilane band baje me kharch ho jate hai, jo ki kamane me varsho lag jaenge par udae sirf chand ghanto me jate hai.Ye upbhoktawad aur dikhawati sanskriti desh ke liye khatarnak ho gai hai.Agar jald ise na roka to nasoor ban jaegi par logo ne ab ise jiwan shaily man liya hai, aksar ye dikhawe var paksha ki farman par hi hote hai.
manishsqrt is offline   Reply With Quote
The Following User Says Thank You to manishsqrt For This Useful Post:
rajnish manga (10-06-2015)
Old 09-06-2015, 07:19 PM   #5
Rajat Vynar
Diligent Member
 
Rajat Vynar's Avatar
 
Join Date: Sep 2014
Posts: 1,033
Thanks: 644
Thanked 367 Times in 267 Posts
Rep Power: 22
Rajat Vynar has a brilliant futureRajat Vynar has a brilliant futureRajat Vynar has a brilliant futureRajat Vynar has a brilliant futureRajat Vynar has a brilliant futureRajat Vynar has a brilliant futureRajat Vynar has a brilliant futureRajat Vynar has a brilliant futureRajat Vynar has a brilliant futureRajat Vynar has a brilliant futureRajat Vynar has a brilliant future
Default Re: कुछ तर्क

जिस कल्चर की आप बात कर रही हैं उसका मुझे संज्ञान है। लाखों-करोडों का खर्च होने वाली शादी का कार्ड मिलना भी कोई मामूली बात नहीं, सोनी पुष्पा जी। किसी साधारण व्यक्ति को नहीं मिलता ऐसा कार्ड। ऐसा कोई कार्ड अपनी शक्ति से प्रकट किया क्या जो इस बारे में चर्चा कर रही हैं? वैसे किसी कहानी का कितना सुन्दर आइडिया लिखा है आपने। शादी में मिले और दुश्मनी दोस्ती में बदल गई। शादी में मिले और दोस्ती दुश्मनी में बदल गई। वाह-वाह, क्या बात है। इसीलिए तो मैं कहता हूँ- आपमें बहुत कुछ बनने की क्षमता है। आपके अन्दर एक दो नहीं, कई कलाऍ छिपी हुई है। बस उन कलाओं को खोद-खोद कर बाहर निकालने की जरूरत है। बधाइयाँ।
__________________
WRITERS are UNACKNOWLEDGED LEGISLATORS of the SOCIETY!
First information: https://twitter.com/rajatvynar
Rajat Vynar is offline   Reply With Quote
Old 09-06-2015, 11:04 PM   #6
soni pushpa
Diligent Member
 
Join Date: May 2014
Location: east africa
Posts: 1,200
Thanks: 1,319
Thanked 1,000 Times in 712 Posts
Rep Power: 54
soni pushpa has a reputation beyond reputesoni pushpa has a reputation beyond reputesoni pushpa has a reputation beyond reputesoni pushpa has a reputation beyond reputesoni pushpa has a reputation beyond reputesoni pushpa has a reputation beyond reputesoni pushpa has a reputation beyond reputesoni pushpa has a reputation beyond reputesoni pushpa has a reputation beyond reputesoni pushpa has a reputation beyond reputesoni pushpa has a reputation beyond repute
Default Re: कुछ तर्क

[

bahut bahut dhanywad manish ji ki aapne is sutra ko aage badhaya ..
soni pushpa is offline   Reply With Quote
Old 09-06-2015, 11:09 PM   #7
Deep_
Moderator
 
Deep_'s Avatar
 
Join Date: Aug 2012
Posts: 1,936
Thanks: 823
Thanked 483 Times in 398 Posts
Rep Power: 30
Deep_ has a reputation beyond reputeDeep_ has a reputation beyond reputeDeep_ has a reputation beyond reputeDeep_ has a reputation beyond reputeDeep_ has a reputation beyond reputeDeep_ has a reputation beyond reputeDeep_ has a reputation beyond reputeDeep_ has a reputation beyond reputeDeep_ has a reputation beyond reputeDeep_ has a reputation beyond reputeDeep_ has a reputation beyond repute
Default Re: कुछ तर्क

सच कहुं तो शादी जीवन का सबसे बड़ा त्यौहार है, सबसे बड़ी खुशी है। हम यही मानतें है की ईसमें पैसो की वजह से कोई कमी न रह जाए। पैसों की यहां कम और खुशीयों की अधिक महत्ता होती है। सो हम यथाशक्ति खर्च करतें है। हां, हम सबकी प्रायोरिटीझ अलग अलग होती है। शायद कोई अधिक खर्च न करना चाहे और वही पैसे भविष्य के योजनाओं मे लगाए यह भी योग्य है।

हमें कभी लगता है फलां ने बहूत खर्च कर दिया, फलां ने कैसी कंजूसी की! लेकिन एक बात बता दूं...हम में से ज्यादातर लोग यही सोचतें है की अगर पैसो की कमी न होती तो हेलिकोप्टर में आते और केटरीना कैफ को ब्याह ले जाते!

हाला की शादी में होने वाले खाने का व्यय मुझे सबसे ज्यादा ना पसंद है!
Deep_ is offline   Reply With Quote
The Following User Says Thank You to Deep_ For This Useful Post:
rajnish manga (10-06-2015)
Old 09-06-2015, 11:45 PM   #8
soni pushpa
Diligent Member
 
Join Date: May 2014
Location: east africa
Posts: 1,200
Thanks: 1,319
Thanked 1,000 Times in 712 Posts
Rep Power: 54
soni pushpa has a reputation beyond reputesoni pushpa has a reputation beyond reputesoni pushpa has a reputation beyond reputesoni pushpa has a reputation beyond reputesoni pushpa has a reputation beyond reputesoni pushpa has a reputation beyond reputesoni pushpa has a reputation beyond reputesoni pushpa has a reputation beyond reputesoni pushpa has a reputation beyond reputesoni pushpa has a reputation beyond reputesoni pushpa has a reputation beyond repute
Default Re: कुछ तर्क

Quote:
Originally Posted by rajat vynar View Post
जिस कल्चर की आप बात कर रही हैं उसका मुझे संज्ञान है। लाखों-करोडों का खर्च होने वाली शादी का कार्ड मिलना भी कोई मामूली बात नहीं, सोनी पुष्पा जी। किसी साधारण व्यक्ति को नहीं मिलता ऐसा कार्ड। ऐसा कोई कार्ड अपनी शक्ति से प्रकट किया क्या जो इस बारे में चर्चा कर रही हैं? वैसे किसी कहानी का कितना सुन्दर आइडिया लिखा है आपने। शादी में मिले और दुश्मनी दोस्ती में बदल गई। शादी में मिले और दोस्ती दुश्मनी में बदल गई। वाह-वाह, क्या बात है। इसीलिए तो मैं कहता हूँ- आपमें बहुत कुछ बनने की क्षमता है। आपके अन्दर एक दो नहीं, कई कलाऍ छिपी हुई है। बस उन कलाओं को खोद-खोद कर बाहर निकालने की जरूरत है। बधाइयाँ।
Quote:
Originally Posted by rajat vynar View Post
जिस कल्चर की आप बात कर रही हैं उसका मुझे संज्ञान है। लाखों-करोडों का खर्च होने वाली शादी का कार्ड मिलना भी कोई मामूली बात नहीं, सोनी पुष्पा जी। किसी साधारण व्यक्ति को नहीं मिलता ऐसा कार्ड। ऐसा कोई कार्ड अपनी शक्ति से प्रकट किया क्या जो इस बारे में चर्चा कर रही हैं? वैसे किसी कहानी का कितना सुन्दर आइडिया लिखा है आपने। शादी में मिले और दुश्मनी दोस्ती में बदल गई। शादी में मिले और दोस्ती दुश्मनी में बदल गई। वाह-वाह, क्या बात है। इसीलिए तो मैं कहता हूँ- आपमें बहुत कुछ बनने की क्षमता है। आपके अन्दर एक दो नहीं, कई कलाऍ छिपी हुई है। बस उन कलाओं को खोद-खोद कर बाहर निकालने की जरूरत है। बधाइयाँ।
बहुत बहुत धन्यवाद रजत जी इस बहस में भाग लेने के लिए ,आज के समय में
बड़े लोग तो धाम धूम से शादी करके समाज में खर्च करने का एक नियम सा बना डालते हैं . जिसकी मार साधारण लोगो पर पड़ती है क्यूंकि शादी के नाम पर अब जितने ज्यदा प्रोग्राम होंगे उतने खर्च ज्यादा और जब एक मध्यम वर्ग के इंसान पर खर्च का बोझ आता है तब वो क़र्ज़ लेकर ही उसे पूरा कर सकता है....
और अगर साधारण ईन्सान अपने पर क़र्ज़ का बोझ न लेकर एइसे सादगी से ये जीवन का बड़ा कार्य निपटा भी लेते हैं पर उनके मन में जीवन भर के लिए एक अफ़सोस एक खटका सा रह जाता है की काश हम भी बड़ी से बड़ी धामधूम कर सकते शादी में

याने पिसता कौन है एइसे समाज के बढ़ते दिखावे से? मध्यमवर्गीय इन्सान ही न ?

Last edited by soni pushpa; 10-06-2015 at 12:01 AM.
soni pushpa is offline   Reply With Quote
The Following User Says Thank You to soni pushpa For This Useful Post:
Rajat Vynar (10-06-2015)
Old 09-06-2015, 11:56 PM   #9
soni pushpa
Diligent Member
 
Join Date: May 2014
Location: east africa
Posts: 1,200
Thanks: 1,319
Thanked 1,000 Times in 712 Posts
Rep Power: 54
soni pushpa has a reputation beyond reputesoni pushpa has a reputation beyond reputesoni pushpa has a reputation beyond reputesoni pushpa has a reputation beyond reputesoni pushpa has a reputation beyond reputesoni pushpa has a reputation beyond reputesoni pushpa has a reputation beyond reputesoni pushpa has a reputation beyond reputesoni pushpa has a reputation beyond reputesoni pushpa has a reputation beyond reputesoni pushpa has a reputation beyond repute
Default Re: कुछ तर्क

Quote:
Originally Posted by deep_ View Post
सच कहुं तो शादी जीवन का सबसे बड़ा त्यौहार है, सबसे बड़ी खुशी है। हम यही मानतें है की ईसमें पैसो की वजह से कोई कमी न रह जाए। पैसों की यहां कम और खुशीयों की अधिक महत्ता होती है। सो हम यथाशक्ति खर्च करतें है। हां, हम सबकी प्रायोरिटीझ अलग अलग होती है। शायद कोई अधिक खर्च न करना चाहे और वही पैसे भविष्य के योजनाओं मे लगाए यह भी योग्य है।

हमें कभी लगता है फलां ने बहूत खर्च कर दिया, फलां ने कैसी कंजूसी की! लेकिन एक बात बता दूं...हम में से ज्यादातर लोग यही सोचतें है की अगर पैसो की कमी न होती तो हेलिकोप्टर में आते और केटरीना कैफ को ब्याह ले जाते!

हाला की शादी में होने वाले खाने का व्यय मुझे सबसे ज्यादा ना पसंद है!

बहुत बहुत धन्यवाद दीप जी ,सही कहा आपने इन्सान का बेहद महत्वपूर्ण दिन होता है ये ,.. मेरा इस बहस को यहाँ छेड़ने का आशय यही था की हम क्यों शादी के नाम लाखो रुपये खर्च कर डालते हैं इन्ही पैसों से यदि हम किसी अन्य गरीब की बेटी की शादी करवा दे या किसी विद्यार्थी की फ़ीस भरकर उसे आगे और पढ़ायें उसका जीवन बना दें तो मेरे विचार से ये उस ख़ुशी से ज्यदा बड़ी ख़ुशी की उपलब्धि होगी पर यहाँ ये कदापि न समझा जाय की मैं खुशियाँ मनाने के विरुध्ध हूँ खुशिया कम पैसों में भी मनाई जा सकती है बिना दिखावे के .

आपके इस मत से सहमत हूँ मैं की ,शायद कोई अधिक खर्च न करना चाहे और वही पैसे भविष्य के योजनाओं मे लगाए यह भी योग्य है।

Last edited by soni pushpa; 09-06-2015 at 11:59 PM.
soni pushpa is offline   Reply With Quote
The Following User Says Thank You to soni pushpa For This Useful Post:
Deep_ (10-06-2015)
Old 10-06-2015, 06:06 PM   #10
Rajat Vynar
Diligent Member
 
Rajat Vynar's Avatar
 
Join Date: Sep 2014
Posts: 1,033
Thanks: 644
Thanked 367 Times in 267 Posts
Rep Power: 22
Rajat Vynar has a brilliant futureRajat Vynar has a brilliant futureRajat Vynar has a brilliant futureRajat Vynar has a brilliant futureRajat Vynar has a brilliant futureRajat Vynar has a brilliant futureRajat Vynar has a brilliant futureRajat Vynar has a brilliant futureRajat Vynar has a brilliant futureRajat Vynar has a brilliant futureRajat Vynar has a brilliant future
Default Re: कुछ तर्क

Quote:
Originally Posted by soni pushpa View Post
बहुत बहुत धन्यवाद रजत जी इस बहस में भाग लेने के लिए ,आज के समय में
बड़े लोग तो धाम धूम से शादी करके समाज में खर्च करने का एक नियम सा बना डालते हैं . जिसकी मार साधारण लोगो पर पड़ती है क्यूंकि शादी के नाम पर अब जितने ज्यदा प्रोग्राम होंगे उतने खर्च ज्यादा और जब एक मध्यम वर्ग के इंसान पर खर्च का बोझ आता है तब वो क़र्ज़ लेकर ही उसे पूरा कर सकता है....
और अगर साधारण ईन्सान अपने पर क़र्ज़ का बोझ न लेकर एइसे सादगी से ये जीवन का बड़ा कार्य निपटा भी लेते हैं पर उनके मन में जीवन भर के लिए एक अफ़सोस एक खटका सा रह जाता है की काश हम भी बड़ी से बड़ी धामधूम कर सकते शादी में

याने पिसता कौन है एइसे समाज के बढ़ते दिखावे से? मध्यमवर्गीय इन्सान ही न ?
इस पर मैं बाद में उत्तर दूंगा।
__________________
WRITERS are UNACKNOWLEDGED LEGISLATORS of the SOCIETY!
First information: https://twitter.com/rajatvynar
Rajat Vynar is offline   Reply With Quote
Reply

Bookmarks

Thread Tools
Display Modes

Posting Rules
You may not post new threads
You may not post replies
You may not post attachments
You may not edit your posts

BB code is On
Smilies are On
[IMG] code is On
HTML code is Off



All times are GMT +5.5. The time now is 04:06 PM.


Powered by: vBulletin
Copyright ©2000 - 2017, Jelsoft Enterprises Ltd.
MyHindiForum.com is not responsible for the views and opinion of the posters. The posters and only posters shall be liable for any copyright infringement.