My Hindi Forum

Go Back   My Hindi Forum > Art & Literature > Hindi Literature

Reply
 
Thread Tools Display Modes
Old 04-11-2017, 12:53 PM   #371
rajnish manga
Super Moderator
 
rajnish manga's Avatar
 
Join Date: Aug 2012
Location: Faridabad, Haryana, India
Posts: 12,500
Thanks: 4,764
Thanked 4,249 Times in 3,305 Posts
Rep Power: 228
rajnish manga has a reputation beyond reputerajnish manga has a reputation beyond reputerajnish manga has a reputation beyond reputerajnish manga has a reputation beyond reputerajnish manga has a reputation beyond reputerajnish manga has a reputation beyond reputerajnish manga has a reputation beyond reputerajnish manga has a reputation beyond reputerajnish manga has a reputation beyond reputerajnish manga has a reputation beyond reputerajnish manga has a reputation beyond repute
Default Re: इधर-उधर से

रूसी अंतरिक्ष यान सोयूज़ 2

आज के दिन का अंतरिक्ष अन्वेषण के क्षेत्र में एक विशेष स्थान है. साठ वर्ष पूर्व आज ही के दिन यानी 3 नवम्बर सन 1957 को रूस (उस समय सोवियत रूस) ने अपना दूसरा अंतरक्ष यान सोयूज़ 2 अंतरिक्ष में भेजा था. इसकी खासियत यह थी कि इसमें पहली बार किसी प्राणी को मानव निर्मित उपग्रह में बैठा कर अन्तरिक्ष में भेजा गया था. यह प्राणी दरअसल एक कुतिया थी जिसका नाम लाईका था. यद्यपि पृथ्वी की कक्षा में चक्कर लगाते लगाते ही उसकी मौत हो गई थी फिर भी उसका नाम उस इतिहास से जुड़ गया है जो अंतरिक्ष की खोज में मील का पत्थर साबित हुआ.

हम लोग उन दिनों उत्तर प्रदेश (आजकल उत्तराखंड) के हल्द्वानी शहर में रहते थे. मेरे पिता वहां कत्था मिल में इंजीनियर थे. सभी लोगों में इस रूसी अंतरिक्ष यान के बारे में बहुत जिज्ञासा थी और उत्सुकता थी की रात को उस यान को आकाश में देखा जाए. हालांकि उस छोटे से अन्तरिक्ष में तारों के झुरमुट में देख पाना और पहचान पाना आसन नहीं था फिर भी मुझे अच्छी तरह याद है कॉलोनी के सभी लोग रात को अपने अपने घरों से निकल कर बाहर आ जाते थे और आकाश में टकटकी लगा कर ऐसे देखते थे जैसे हवाई जहाज की तरह से उन्हें वह अंतरिक्ष यान दिखाई दे जाएगा.

सब लोगों के साथ मैं भी तारों भरे आकाश को देख रहा था. उन दिनों प्रदूषण की समस्या नहीं थी इसलिए आसमान साफ़ नज़र आता था. इतने में लोगों ने देखा कि सैंकड़ों तारों के बीच एक तारा एक दिशा से चलता हुआ दूसरी दिशा में बढ़ता जा रहा था. यह दृश्य लगभग 3-4 मिनट तक सब लोग देखते रहे. उसके बाद वह क्षितिज की ओर जा कर नज़रों से ओझल हो गया. अब वह वास्तव में क्या था, कह नहीं सकते. लेकिन वहां उपस्थित सभी को विश्वास था कि जो कुछ उन्होंने देखा वह रूसी अंतरिक्ष यान ही था.
__________________
आ नो भद्रा: क्रतवो यन्तु विश्वतः (ऋग्वेद)
(Let noble thoughts come to us from every side)
rajnish manga is online now   Reply With Quote
Old 09-11-2017, 11:27 PM   #372
rajnish manga
Super Moderator
 
rajnish manga's Avatar
 
Join Date: Aug 2012
Location: Faridabad, Haryana, India
Posts: 12,500
Thanks: 4,764
Thanked 4,249 Times in 3,305 Posts
Rep Power: 228
rajnish manga has a reputation beyond reputerajnish manga has a reputation beyond reputerajnish manga has a reputation beyond reputerajnish manga has a reputation beyond reputerajnish manga has a reputation beyond reputerajnish manga has a reputation beyond reputerajnish manga has a reputation beyond reputerajnish manga has a reputation beyond reputerajnish manga has a reputation beyond reputerajnish manga has a reputation beyond reputerajnish manga has a reputation beyond repute
Default Re: इधर-उधर से

1990 से दिल्ली में प्रदूषण

इधर दिल्ली और उसके आसपास के शहरों में वायु प्रदूषण एक खतरनाक शक्ल अख्तियार करता जा रहा है. प्रदूषण का असर इतना गहरा है कि सड़कों पर पचास मीटर दूर की चीज भी साफ़ नज़र नहीं आती. नॉएडा-आगरा एक्सप्रेसवे पर कल बहुत सी गाड़ियों के एक्सीडेंट हो गए. बच्चों के स्कूल में कुछ दिनों की छुट्टी कर दी गयी है. लोगों को सांस लेने में दिक्कत हो रही है. अस्पतालों में श्वांस संबंधी बीमारियों के मरीज पहले के मुकाबले अधिक संख्या में भारती हो रहे हैं. अखबारों के अलावा टीवी के न्यूज़ चैनल पर भी प्रदूषण का विषय ही प्रमुखता से छाया रहा. डिबेट में भी इसी विषय पर मुख्य रूप से चर्चा हुयी.

इसी पृष्ठ भूमि में मुझे अपनी डायरी में आज से 27 वर्ष पूर्व के यानी सन 1990 की सर्दियों में दर्ज एक आलेख के अंश दिखाई दे गए. उन दिनों मैं इंडियन एक्सप्रेस अखबार पढ़ा करता था (जिसके एडीटर अरुण शौरी थे). इस अंश को पढ़ कर पता चलता है कि उस समय भी सर्दी के दिनों में दिल्ली गंभीर प्रदूषण की गिरफ्त में थी. सम्पादकीय के अंश इस प्रकार हैं:-

Every winter a natural phenomenon called the atmospheric inversion traps cold air over Delhi and along with it a deadly cocktail of gaseous pollutants.

What is worrisome is that with 650 tonnes of noxious fumes spewed out by vehicles daily, the capital effectively turns into a giant gas chamber between November and January.

हाँ, उस समय वाहनों में C N G का उपयोग नहीं होता था और डीज़ल वाले वाहनों पर किसी प्रकार की कोई पाबंदी नहीं थी. लेकिन तब के मुकाबले वाहनों की संख्या सैंकड़ों गुना बढ़ गई है. साथ ही पंजाब, हरियाणा तथा यूपी में खेतों में धान की फसल कटने के बाद किसानों द्वारा पराली जलाने बुरी प्रथा के चलते इस सारे इलाके में धुआं फ़ैल जाता है जो नमीं के कारण धरती के निकट ही तैरता रहता है. राष्ट्रीय ग्रीन ट्रिब्यूनल ने इस पर भारी जुर्माना तय कर रखा है लेकिन बिल्ली के गले में घंटी कौन बांधेगा.
__________________
आ नो भद्रा: क्रतवो यन्तु विश्वतः (ऋग्वेद)
(Let noble thoughts come to us from every side)
rajnish manga is online now   Reply With Quote
Reply

Bookmarks

Tags
इधर उधर से, रजनीश मंगा, idhar udhar se, misc, potpourri, rajnish manga, yahan vahan se

Thread Tools
Display Modes

Posting Rules
You may not post new threads
You may not post replies
You may not post attachments
You may not edit your posts

BB code is On
Smilies are On
[IMG] code is On
HTML code is Off



All times are GMT +5.5. The time now is 06:32 PM.


Powered by: vBulletin
Copyright ©2000 - 2017, Jelsoft Enterprises Ltd.
MyHindiForum.com is not responsible for the views and opinion of the posters. The posters and only posters shall be liable for any copyright infringement.